Wednesday, 17 June 2015

मेरी श्री लंका यात्रा

ब्लॉगरों को रचनात्मक मंच प्रदान करने के उद्देश्य से विगत पांच वर्षों से कार्यरत लखनऊ की प्रमुख सामाजिक-सांस्कृतिक और साहित्यिक संस्था परिकल्पना द्वारा विगत दिनों आयोजित पांच दिवसीय पंचम अंतर्राष्ट्रीय ब्लॉगर सम्मलेन एवं परिकल्पना सम्मान समारोह श्रीलंका की राजधानी कोलम्बो तथा सांस्कृतिक राजधानी कैंडी में पूरी भव्यता के साथ संम्पन हुआ| समारोह का उद्घाटन श्रीलंका के वरिष्ठ रंगकर्मी डान सोमरत्ने विथाना ने किया। मुख्य अतिथि रहे उ.प्र.शासन के पूर्व नगर विकास मंत्री श्री नकुल दुबे| और मानद अतिथि रहे निदेशक भारतीय डाक सेवा राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र (जोधपुर) के कृष्ण कुमार यादव तथा विशिष्ट अतिथि रहे उत्तर महाराष्ट्र विश्वविद्यालय के हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ सुनील कुलकर्णी। इस सम्मलेन में मध्य प्रदेश, छतीसगढ़, महाराष्ट्र, असम, दिल्ली, हरियाणा समेत उत्तर प्रदेश के कई ब्लॉगरों को सम्मानित किया गया। दिल्ली, लखनऊ, काठमाण्डू(नेपाल) तथा थिम्पू (भूटान) के बाद पांचवा अंतर्राष्ट्रीय ब्लॉगर सम्मेलन दिनांक 23 मई 2015 से 27 मई 2015 तक श्रीलंका की राजधानी कोलम्बो, सांस्कृतिक राजधानी कैंडी एवं निगम्बो आदि नगरों में संम्पन हुआ|इस अवसर पर ब्लॉगरों को अंगवस्त्र, स्मृति चिन्ह, सम्मान पत्र देकर एक निश्चित राशि के साथ सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन संयुक्त रूप से डॉ राम बहादुर मिश्र और सुनीता प्रेम यादव ने किया। अंत में कार्यक्रम के संयोजक रवीन्द्र प्रभात ने सबके प्रति आभार व्यक्त किया|
अशोक वाटिका के दर्शन आप सभी भी कीजिए वाटिका में दक्षिण शैली में निर्मित मन्दिर बगल में बहती नदी वहीं चट्टान पर बने हनुमान जी के पदचिन्ह और अशोक के पेड़ पीछे जंगल। जो ककभी सोचा न था इन आखों से देख सकी ,ईश्वर की कृपा से आंखें धन्य हो गई...

हम साथ साथ हैं एक मिनी भारत के रूप में हम श्रीलंका गये थे यानी लखनऊ, दिल्ली, मुंबई, असम,राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, पश्चिमी बंगाल महाराष्ट्र आदि आदि..... 
अशोक वाटिका जाते समय हमें रास्ते में भगवान गणेश ,माता और कार्तिकेय जी की झांकी देख ने को मिली हम भी बस से उतर कर झूम कर नाच उठे , वो इसलिए कि परदेस में मेरे अराध्य देव की रथ यात्रा निकल रही थी.... 
कोलंबो की एक शाम कुसुम वर्मा के नाम
लंका की सरजमीं पर लंका के म्यूजिशियन और वही के सिंगर्स को सिखा कर अवधी लोकगीत उनके साथ गाने में बहुत अच्छा लगा .
श्रीलंका की राजधानी कोलंबो में परिकल्पना सार्क सुर सरस्वती सम्मान प्राप्त करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ ।25 मई 2015
ऐसे ही तमाम पलों के गवाह ये चित्र, जो अभी भी जीवंत हैं।

 श्री लंका में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय ब्लॉगर्स सम्मेलन ने  महिला ब्लॉगर्स को एक साथ इकट्ठा होने का भरपूर मौका दिया। भारत के विभिन्न प्रांतों से, विभिन्न कार्य-क्षेत्रों से, विभिन्न आयु-वर्ग से आई महिला ब्लॉगर्स-साहित्यकार-पत्रकार की अंतर्राष्ट्रीय ब्लॉगर सम्मेलन, श्रीलंका में सशक्त भागीदारी रही। इनमें अकेले भारत से 13 महिला ब्लॉगर्स ने अपनी भागीदारी दर्ज कराई। 
कार्यक्रम का पूरा व्योरा पढ़ें परिकल्पना कोश पर ......तबतक मैं कुसुम आपसे मिलती हूँ एक ब्रेक के बाद । 

1 comment:

  1. यादगार पल ...
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति ..

    ReplyDelete